Mishra4u

मेष राशि फल अक्टूबर 2021

मेष राशि फल अक्टूबर 2021 –

 हेलो,नमस्कार,अदाव,सलाम,ससुरियेकाल, केम छो, कस्सेकाय,केरो हाल है,केना छी आहा सब,कैसन वानी,हाउ र यू ,कैसे है आप लोग उम्मीद करता हु आप अच्छे होंगे स्वस्थ्य होने और आपका समय कैसा रहेगा आइये जानते है |

यहाँ अभी मैं आपको मेष राशि फल अक्तूबर 2021 के बारे में बताने जा रहा हु तो आइये जानते है | मित्रों ये हमारा राशि फल सूर्य के गोचर पर आधारित है और अभी सूर्य 16 अक्तूबर तक कन्या राशि में रहेंगे और उसके बाद 17 अक्तूबर को तुला राशि में प्रवेश कर जायेंगे  इसका प्रभाव आपके ऊपर में क्या पड़ेगा आइये जानते है –

                               मेष राशि के लिए 16 अक्तूबर तक का समय बहुत अच्छा रहने वाला है क्योंकि सूर्य इस समय आपके कुंडली के छठे भाव में विराजमान है और गोचर का सूर्य छठे भाव में अच्छा फल देता है | इस समय आपके रोग का नाश होगा और दुश्मन अगर आपसे टकराने का प्रयास करेंगे तो उसको पराजय का सामना करना पड़ेगा अगर पहले से कोई कर्ज है तो ख़त्म होने की संभावना बन रही है | अगर आपको नेत्र से सम्बंधित किसी भी प्रकार की परेशानी पहले से है तो उसमे भी सुधार देखने को मिलेगा | दूर के यात्रा का भी योग इस समय बन रहा है जिससे से आपको लाभ ही मिलेगा | अगर किसी प्रकार का कोई मुकदमा चल रहा है तो आपको इस महीने राहत मिलेगी | गुप्त रूप से भी कुछ कार्य आप कर सकते है जो सिद्ध होगा | आपके कार्य की सिद्धि होगी और सुख प्राप्ति का योग भी बन रहा है ,नए वस्त्र ,अच्छा भोजन प्राप्ति भी होगी | राज्याधिकारी से लाभ और  आपके प्रताप में वृद्धि होगी साथ ही शोक-मोह आदि भावो का नाश होकर चित शांत रहेगा |

मित्रो 17 अक्टूबर से सूर्य देव आपके कुंडली के सप्तम भाव में विराजमान हो जायेंगे जिस कारन से दांपत्य जीवन में परेशानी का सामना करना पड़ेगा | अगर आप किसी के साथ प्रेम में है तो उस जगह भी आपको तनाव ,झगडा का सामना करना पड़ सकता है | आपके अन्दर इस समय कई प्रकार के अवगुण का आगमन हो सकता है | भतीजा पक्ष से हानि का योग भी बन रहा है साथ ही कुछ पैसे या धन हनी भी हो सकती है इसलिए होशियार रहे | अगर आप किसी के साथ साझेदारी में बिज़नस करते  है तो आपको सोच समझ कर चलना चाहिए | आपको लिंग या अंडकोश से सम्बंधित परेशानी का सामना करना पड़ सकता है इसलिए सावधान रहे | स्त्री और पुत्र बीमार पड़ सकते है और कार्य में असफलता का सामना करना पड़ सकता है | बिज़नस में बाधा आ सकती है और कष्टकारक यात्रा भी करना पड़ सकता है | उदर पीड़ा, सिर पीड़ा आदि रोग आपको परेशान कर सकते है साथ ही धन और मान हानि के कारन  मन में कलेश हो सकता है |

उपाय :- ॐ शुक्र देवाय नम: मंत्र का दैनिक जाप 1 माला करे |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shopping Cart